डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के बचपन की अनदेखी फोटो

Dr-A-P-J-Abdul-Kalam-Sadupayog-Best-Hindi-Blog-For-internet-mobile-computer-technology-Facebook-Whats-App-online-earning-Tips-and-tricks
कलाम साहब मेरे तो फेवरेट  थे ही , मैं सोचता  हूँ  की वे आपके  भी चाहते होंगे | मैं आपके साथ कलाम साहब के बचपन का एक फोटो शेयर कर रहा हु और साथ ही उनके बचपन की भी एक छोटी सी घटना बताने जा रहा हूँ | कलाम साहब करीब 8-9 साल के थे तब एक दिन उनके पिता जी खाना खा रहे थे तभी उनको थाली में एक जली हुई रोटी दिखी | तब उनकी  माता
जली हुई रोटी के लिए उनके पिता से माफ़ी मांगने लगी , तब गुस्सा होने की बजाय उनके पिता ने जावाब दिया - "मुझे जली हुई रोटिया पसंद है " |

 यह बात कलाम साहब बखूबी देख रहे थे | उन्होंने जब अपने पिता से इस बारे में अपने पिता से पूछा तो उन्होंने कहा - जली हुई रोटियाँ किसी कको नुकसान नहीं पहुचाती परन्तु कडवे शब्द जरुर नुक्सान पहुचाते है | इसलिए रिश्तों में हमेशा एक दुसरे की गलतियों को प्यार से लो , और जो तुमको नापसंद करते है उनके लिए मन में संवेदना रखो | यही जीवन जीने की असली कला है |

कैसी लगी आपको कलाम साहब की यह पोस्ट ?

SHARE THIS
Previous Post
Next Post